रहता नहीं है कल कभी क्यों आज की तरह

Posted by Raqim

रहता नहीं है कल कभी क्यों आज की तरह
वक्त क्यों बदलता है मिजाज की तरह

चेहरों पे डालता हूँ अकीदत भरी नजर
पढता हूँ सूरतों को मैं नमाज की तरह

लम्हा लम्हा उम्र का या कतरा कतरा पानी
क्या जिन्दगी है डूबते जहाज की तरह

रोटी की फिक्र भारी होती है बराबर
एकदम तुम्हारी फिक्र ए तख्तोताज की तरह

राकिम फिजूल करते हो तुम दुनिया की परवा
चलती है दुनिया आदतन रिवाज की तरह