किस तरह के रिश्ते को कैसे निभाना था

Posted by Raqim

किस तरह के रिश्ते को कैसे निभाना था
आसाँ नहीं ये मसअला समझ में आना था

बाप थे बुजुर्ग माँ बीमार थी मगर
पुराना ही सही सिर पे शामियाना था

अल्लाह नें मजलूमों को सिर ही क्यों दिया
हर बात पे जब हर जगह इसे झुकाना था

तुझसे मिल के आज यही सोच रहा हूँ
क्या याद रखना था मुझे क्या भूल जाना था

वो तो जानते थे हर सवाल का जवाब
मंसूबा उनका बस हमें आजमाना था

इक दूसरे के सुख में दुख में होते थे शरीक
ऐसे भी आदमी थे ऐसा जमाना था

है इत्तिफाक लग गया है तीर जगह पर
कह रहें हैं लोग कि मुश्किल निशाना था

दरअस्ल इरादा खुदकशी का था राकि़म
समन्दर में मोती ढूँढना तो इक बहाना था

1 comments:

  1. इमरान अंसारी

    सुभानाल्लाह......हर शेर उम्दा और मुकम्मल.......इस खुबसूरत और बेहतरीन ग़ज़ल के लिए दाद कबूल करें|