जेहन जब गुजरे लम्हों को कभी वापस बुलाता है

Posted by Raqim

जेहन जब गुजरे लम्हों को कभी वापस बुलाता है
सिवा तेरे हमें अक्सर बहुत कुछ भूल जाता है

हमारे हौसलों को देखकर सूरज नें पूछा था
जुगनुओं के लिए लश्कर मुखातिब कौन आता है

बसा ली है निगाहों में उसकी सूरत जबसे हमनें
हमारा चेहरा अब आईना कब हमको दिखाता है

भरे रहते हैं अखबारों के पन्ने इस्तेहारों से
खबर की जगह अब अखबार तो बाजार लाता है

फकीरों की कतारे हैं लकीरों पर खड़ी राकि़म
उसे कहते हैं पागल जो नयी राहें बनाता है