वरना कोई किसी को क्या देगा

Posted by Raqim

सिर्फ उम्मीद है खुदा देगा
वरना कोई किसी को क्या देगा

क्यों शिकायत किसी से क्या करिये
बेवजह ही कोई वजा देगा

आज आमादा डूबने पर हम
आज दरिया भी रास्ता देगा

आखिरश कह दिया है मुंसिफ से
देख लेंगे जो फैसला देगा

ऐसा उतरा है लहू आँखों में
आज आईने को डुबा देगा

टूटते टूटते चराग का दम
कुछ अंधेरों को तो मिटा देगा