जमीं देखकर चलो

Posted by Raqim

यकसाँ रखो पाँव जमीं देखकर चलो
पहले करो फैसला फिर राह पर चलो

ताजिन्दगी नचाती है उँगलियों पे भूक
कहता है पेट पाँव से कि उम्रभर चलो

चलते हैं हुजूम में लकीरों के फकीर
अपना उसूल है लकीरें छोड़कर चलो

रास्तों की नब्ज को टटोलते रहो
अच्छा लगे अगर मिजाजे रहगुजर चलो


कुछ देर के सफर के बाद शाम मिलेगी
कुछ दूर दोपहर की धूप ओढकर चलो

चारो तरफ है घेरे में दहलीज मौत की
आखिर है पहुँचना वहीं चाहें जिधर चलो

हासिल है तजर्बा हमें राहें बदलने से
राकि़म जी कैसी राह पर किस कदर चलो