जगजीत सिंह तुम्हारी गुलूकारी को सलाम

Posted by Raqim

खिदमत गजल की करते रहे उम्रभर तमाम
जगजीत सिंह तुम्हारी गुलूकारी को सलाम

सूरज की चमक चार पहर चाँद की भी चार
आठो पहर चमकता रहेगा तुम्हारा नाम

वैसे तो गाने वाले बहुत दुनिया में हुए
जगजीत सिंह का था अलग अंदाजे खुशखिराम

औलाद का गम दिल में अपने दफ्न करके तुम
करते रहे रंगी जा ब जा गजल की शाम

मजबूर गरीबों बुजुर्गों बच्चों की मदद
तुमने किये जमाने में बहुत से नेक काम

जग जीत कर चले गये जगजीत जग से तुम
करता रहेगा सारा जग तुम्हारा एहतिराम



गुलूकारी-गायकी, अंदाजे खुशखिराम-धीरे धीरे गाने का अंदाज

1 comments:

  1. इमरान अंसारी

    मेरे पसंदीदा गायकों में से एक जगजीत साहब....उन्होंने जो गाया वो अमर कर दिया...मेरी श्रद्धांजलि उनको| आपने बहुत खूबसूरत लफ्जों में उनको याद किया है |ingat