रहता नहीं है कल कभी क्यों आज की तरह

Posted by Raqim

रहता नहीं है कल कभी क्यों आज की तरह
वक्त क्यों बदलता है मिजाज की तरह

चेहरों पे डालता हूँ अकीदत भरी नजर
पढता हूँ सूरतों को मैं नमाज की तरह

लम्हा लम्हा उम्र का या कतरा कतरा पानी
क्या जिन्दगी है डूबते जहाज की तरह

रोटी की फिक्र भारी होती है बराबर
एकदम तुम्हारी फिक्र ए तख्तोताज की तरह

राकिम फिजूल करते हो तुम दुनिया की परवा
चलती है दुनिया आदतन रिवाज की तरह

कमजोर की है जिन्दगी दुश्वार यहाँ पर

Posted by Raqim

हैं लोग जालिमों1 के परस्तार2 यहाँ पर
कमजोर की है जिन्दगी दुश्वार3 यहाँ पर

मशविरा4 है छोड़ दो इंसाफ की उम्मीद
मुंसिफ की शक्ल में हैं गुनहगार यहाँ पर

कुछ यूँ है तजर्बा हमारा इस दयार5 का
कि होता नहीं किसी पे एतबार यहाँ पर

हम हैं बेवकूफ इसका इल्म होते ही
सब के सब हुए हैं होशियार यहाँ पर


कुछ और नहीं है यहाँ तमाशे से सिवा
हैं तरह तरह के किरदार6 यहाँ पर


गैरत7 की बात राकिम यहाँ न कीजिये
है पेट पर सभी के दस्तार8 यहाँ पर


1-आतातायी,अत्याचार करने वाला,2-उपासक,3-कठिन,4-सलाह,5-क्षेत्र,6-पात्र,7-स्वाभिमान,8-पगड़ी

जगजीत सिंह तुम्हारी गुलूकारी को सलाम

Posted by Raqim

खिदमत गजल की करते रहे उम्रभर तमाम
जगजीत सिंह तुम्हारी गुलूकारी को सलाम

सूरज की चमक चार पहर चाँद की भी चार
आठो पहर चमकता रहेगा तुम्हारा नाम

वैसे तो गाने वाले बहुत दुनिया में हुए
जगजीत सिंह का था अलग अंदाजे खुशखिराम

औलाद का गम दिल में अपने दफ्न करके तुम
करते रहे रंगी जा ब जा गजल की शाम

मजबूर गरीबों बुजुर्गों बच्चों की मदद
तुमने किये जमाने में बहुत से नेक काम

जग जीत कर चले गये जगजीत जग से तुम
करता रहेगा सारा जग तुम्हारा एहतिराम



गुलूकारी-गायकी, अंदाजे खुशखिराम-धीरे धीरे गाने का अंदाज

मिला नहीं है मेरा होना

Posted by Raqim

मिला नहीं है मेरा होना
ढूँढ लिया है कोना कोना

मेहनत करने में तौहीनी
सीख लिया है जादू टोना

किस्मत की तहरीर पढी जब
था लिखा किस्मत पे रोना

रोये दुनिया माँगे दौलत
रोये बच्चा देख खिलौना

साहिल होने का मतलब है
दरिया पाना दरिया खोना

काटने को बेताब सभी हैं
आता नहीं किसी को बोना

आखिर मिलना है मिट्टी में
राकिम फिर क्या चाँदी सोना

जमीं देखकर चलो

Posted by Raqim

यकसाँ रखो पाँव जमीं देखकर चलो
पहले करो फैसला फिर राह पर चलो

ताजिन्दगी नचाती है उँगलियों पे भूक
कहता है पेट पाँव से कि उम्रभर चलो

चलते हैं हुजूम में लकीरों के फकीर
अपना उसूल है लकीरें छोड़कर चलो

रास्तों की नब्ज को टटोलते रहो
अच्छा लगे अगर मिजाजे रहगुजर चलो


कुछ देर के सफर के बाद शाम मिलेगी
कुछ दूर दोपहर की धूप ओढकर चलो

चारो तरफ है घेरे में दहलीज मौत की
आखिर है पहुँचना वहीं चाहें जिधर चलो

हासिल है तजर्बा हमें राहें बदलने से
राकि़म जी कैसी राह पर किस कदर चलो

हैरत में हैं हैरानियाँ हैं फेर वक्त का

Posted by Raqim

हैरत में हैं हैरानियाँ हैं फेर वक्त का
परीशाँ हैं परेशानियाँ है फेर वक्त का

उम्मीद की उम्मीद नहीं फिर भी देखिये
बदगुमाँ हैं बदगुमानियाँ है फेर वक्त का

मोहताज थे जो एक गमगुसार को कभी
मेहरबाँ हैं मेहरबानियाँ है फेर वक्त का

दाव पेंच अक्लवालों के समझती हैं
नादाँ नहीं नादानियाँ है फेर वक्त का

ईश्क की शुरूआत एक बार फिर से हो

Posted by Raqim

इस बार न गलती कोई मेरे यार फिर से हो।
ईश्क की शुरूआत एक बार फिर से हो।।

हमने दुआ माँगी थी हो के ईश्क में रूस्वा।
यारब न कोई मुझ सा शर्मशार फिर से हो।।

नये ईश्क से बेदखल जमाने को करो।
राह में रोड़ा न कोई खार फिर से हो।।

रोये न कोई लैला अब दोबारा ईश्क में।
अब न कोई मजनू संगसार फिर से हो।।

दीवार और सलाखें नये ईश्क में न हों।
आशिक न कोई अब के गिरफ्तार फिर से हो।।

राकिम जमाना ईश्क को कहे है अगर गुनाह।
दो चार फिर से हो सौ हजार फिर से हो।।

हम कर के एतबार बदगुमान क्यों हुए

Posted by Raqim

हम कर के एतबार बदगुमान क्यों हुए
दानिश्ता ही नाहक में परेशान क्यों हुए

मेरी खता को क्यों गुनाह कह रहे हैं लोग
ये लोग मुंसिफाना बेईमान क्यों हुए

पाबंद थे जो करने को मेरी मुखालफत
क्या बात है जनाब मेहरबान क्यों हुए

क्या मेरी तबाही की साजिश में थे शरीक
पहलूनशीं वगरना पशेमान क्यों हुए

आया जो इंकलाब तो मिलेगा क्या उन्हें
जो लोग बेगुनाह थे कुर्बान क्यों हुए

मुँह किसका किसका देखें राकिम जी यहाँ पर
किस किस से पूछें खफा साहेबान क्यों हुए

राकि़म जोगिया रोये

Posted by Raqim

सारी दुनिया ख्वाब में डूबी जब रातों में सोये।
राकि़म अलख जगाये जोगिया राकि़म जोगिया रोये।।

जोगिया उसको ख़ालिक़ बोले ख़ालिक़ को ही मालिक बोले।
बोले मेरा कहना क्या है वो जो चाहे होये।।

तोरे ईश्क में पागल जोगिया घूमे दरिया जंगल जोगिया।
दुनिया खोजे ताकत दौलत जोगिया खोजे तोहे।।

झोली खाली करता जाये खाली झोली भरता जाये।
इसकी तनिक भी फिक्र नहीं कि क्या पाये क्या खोये।।

दुआ में भींगी जुबान शीरी बिखरे बिखरे बाल फकीरी।
कुछ ना चाहे जोगिया फिर कुछ क्यों काटे क्यों बोये।।

खोट नहीं जोगिया के मन में दाग नहीं कोई दामन में।
आ जाये या लग जाये तो रो रोकर के धोये।।

ना तो जोगिया को दुख कोई ना तो जोगिया को सुख कोई।
अपने कंधे पर ले जोगिया दुनिया के गम ढोये।।